मैंने लोगो को इंसान से शैतान बनते देखा है

PC: patrika.com

मैंने लोगो को इंसान से शैतान बनते देखा है,
और राम के नाम पे एक दुसरे से लड़ते देखा है,
बचपन से मैंने राम का नाम सुना है ,
पर मैंने राम को नहीं देखा ,
लेकिन मैंने इंसान को शैतान बनते देखा है|

बचपन से मैंने मंदिर जाना सीखा है,
और स्कूल में ये भी पढ़ा था की भगवान एक है ,
पर मैंने तो असलियत में भगवान् के नाम पर लोग को एक दुसरे से अलग होते देखा है,
मैंने लोगो को इंसान से शैतान बनते देखा है |

मैंने कभी भगवान को नहीं देखा ,
वो कहते है की हर कण में है राम ,
और चारों ऒर है भगवान,
लेकिन मैंने तो इंसानो के रूप में शैतान को देखा है,
मैंने लोगो को इंसान से शैतान बनते देखा है |

मंदिर के लिए लोगो को मारते और मरते देखा है,
तो मस्जिद के लिए मैंने जिहाद भी देखा है ,
फिर कैसे कण -कण में है भगवान ,
जब मैंने इंसान को शैतान बनते देखा है ,

सारे जहा से अच्छा हिन्दोस्तान हमारा ,
ये नारा मैंने बहुतो को कहते सुना है,
पर जब निभाने की बारी आई ,
तो में इन्ही लोगो को एक देश का अस्तित्वा मिटाते देखा है,
मैंने लोगो को इंसान से शैतान बनते देखा है |

मसला तो कई साल पुराना है ,
और अब तो जमाना भी हमारा है,
लेकिन फिर भी मैंने पुरानी  सोच को लोगो पर हावी होते देखा है
मैंने लोगो को इंसान से शैतान बनते देखा है |

एकता में ताकत , ये कथन न जाने मैंने कितनी बार किस्से कहानियों के जरिये सीखा है ,
लेकिन जब आज़माने की बारी आई तो मैंने इस कथन को हर बार झूट बनते देखा है ,
मैंने लोगो को इंसान से शैतान बनते देखा है |

मैंने सुना था की राम का नाम ही सत्य है ,
और औरतों की इज़्ज़त करना इंसानियत का परम कर्त्तव्य है ,
लेकिन दुर्गा और सीता की इस धरती पर मैंने रोज़ औरत का अपमान होते देखा है
मैंने लोगो को इंसान से शैतान बनते देखा है |

राम का नाम तो सब ले रहे है ,
मंदिर भी बनवाने को कह रहे है ,
हर रोज़ एक नै बहस होते देखा है ,
पर जब राम के पदचिन्हो पे चलने की बारी आई ,
तो मैंने लोगो को आपस में ही लड़ते देखा है,
मैंने लोगो को इंसान से शैतान बनते देखा है |

चलो बना लो मंदिर ,या मस्जिद ही बना लो,
और अपने धर्म का कर्त्तव्य भी निभा लो,
पर क्या मनिदर या मस्जिद बनाने से सब ठीक हो जाएगा,
जब इंसान के अंदर से इंसानियत का ही ख़ात्मा हो जाएगा ?

एक बार धर्म से नहीं कर्म से काम करके देखो ,
शायद हर ऒर राम मिल जाएंगे और अल्लाह भी नज़र आएंगे,
फिर सब में राम होगा और अल्लाह होगा ,
और हरे एक घर मंदिर और गलियारा मस्जिद होगा |

Leave a Comment

Your email address will not be published.